प्रतीक चिन्ह और सिद्धांत

प्रतीक चिन्ह और सिद्धांत
/भा.प्र.सं. नागपुर के बारे में/प्रतीक चिन्ह और सिद्धांत
PGP Admissions 2022-24: Fifth list of final admission offers released. Click here for details. | PGP Admissions 2022-24: Fourth list of final admission offers released. Click here for details. | PhD (Ex) 2022-26 Admissions: PhD (Ex) Admissions timeline updated. Click here for details. | PGP Admissions 2022-24: Third list of final admission offers released Click here for details. | Ph.D. Admissions 2022-26: Final list of admission offers released. Click here for details. | IIM Nagpur announces full tuition fee waiver to candidates under its new scholarship policy.

प्रतीक चिन्ह और सिद्धांत

IIMNagpur-logo

भा.प्र.सं. नागपुर व्यवहार को प्रभावित करने के एक अंतिम लक्ष्य के साथ ज्ञान के निर्माण और प्रसार में विश्वास रखता है। उपनिषद की एक पंक्ति इस विश्वास को उचित रूप से व्यक्त करती है।

तित्तिरिया उपनिषद में, शिक्षा वल्ली (अध्याय -1) के नौवें खंड (अनुवाका) [टीयू -1.9] सीखने और शिक्षण के प्रति मनुष्यों के विभिन्न कर्तव्यों के अभ्यास पर जोर देते हैं।

विशेष रूप से, हमने भा.प्र.सं. नागपुर के आदर्श वाक्य स्वरूप इसकी द्वितीय पंक्ति ‘सत्यं च स्वाध्याय प्रवचने च’  का अनुसरण किया है।

यहां सत्यम मोटे तौर पर उच्च सत्य या वास्तविकता की गहरी परतों को संदर्भित करता है – सत्य शाश्वत और संदर्भ मुक्त है। केवल जानना पर्याप्त नहीं है; इसे लागू करने की कोशिश भी की जाना चाहिए।

स्वाध्याय का अर्थ स्व अध्ययन से है -गहन और गहराई से विषय ज्ञान;ज्ञान की निरंतर और अथक खोज;और ज्ञान की सीमाओं का विस्तार।

प्रवाचन का अर्थ है ज्ञान का प्रसार -स्वाध्याय द्वारा निर्दिष्ट ज्ञान के अधिग्रहण के पश्चात्; उत्पादक संवाद; सक्रिय संचार, विनिमय, और सोच, विचारों, अंतर्दृष्टि और दृष्टिकोण के साझाकरण में संलग्न होना -जिनमें से सभी एक समृद्ध, उत्तेजक, जीवंत और उन्नत प्रवचन का परिणाम देते हैं।

‘सत्यं च स्वाध्याय प्रवचने च’ का मतलब है सीखने और शिक्षण के माध्यम से सत्य का अभ्यास। अतः हमारे आदर्श वाक्य को आत्म ज्ञान और समूह प्रवचन के माध्यम से व्यापक सत्य की दिशा में वर्णित किया जा सकता है; जिसे आत्म ज्ञान / व्यक्तिगत उत्कृष्टता और समूह प्रवचन / सलंग्नता / वचनबद्धता के माध्यम से सत्य की रोमांचक / प्रेरित यात्रा के रूप में आगे बढ़ाना है।

संक्षेप में: हमारा आदर्श वाक्य  उत्कृष्टता के लिए लगातार प्रयास करने और, साथ ही, उच्च / गहरी वास्तविकताओं के नए मार्ग पर लगातार आगे बढ़ने की भावना पर आधारित है।

भा.प्र.सं. नागपुर के शोध और शिक्षण में, मुख्य गतिविधियों का उद्देश्य, सत्य – सिद्धांत निर्माण के शाश्वत चक्र की निरंतर खोज से है। अमूर्त ज्ञान और अभ्यास के बीच के अंतर को दूर करने की निरंतर खोज में हमारे शिक्षक और विद्यार्थी दोनों शोध, शिक्षण और अधिगम द्वारा आत्मोत्थान और समूह प्रवचन में संलग्न हैं।

भा.प्र.सं. नागपुर ने अपने लोगो के निर्माण के लिए राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान (एनआईडी) की सेवाएं ली हैं। एक पुनरावृत्ति प्रक्रिया के बाद, आईआईडी नागपुर के आदर्श वाक्य को दर्शाने के लिए एनआईडी ने हमारे लोगो को विशेष रूप से डिजाइन किया है।