जापानी प्रतिनिधियों की भा.प्र.सं. नागपुर के विद्यार्थियों के साथ वार्ता

/News/जापानी प्रतिनिधियों की भा.प्र.सं. नागपुर के विद्यार्थियों के साथ वार्ता

जापानी प्रतिनिधियों की भा.प्र.सं. नागपुर के विद्यार्थियों के साथ वार्ताअगस्त 7, 2018

भारत और जापान के बीच सहयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्य से, भारत में जापान के दूतावास में मंत्री (आर्थिक और विकास) श्री केन्को सोन, और भारत में जापान के दूतावास में प्रथम सचिव (शिक्षा) श्री मसाहिरो कोबायाशी ने 30 जुलाई, 2018 सोमवार को भारतीय प्रबंधन संस्थान नागपुर का दौरा किया।

कार्यक्रम का ध्यान प्लेसमेंट में सुधार करना और जापान में पढ़ रहे भारतीय विद्यार्थियों की संख्या में वृद्धि करना था।

अवसर पर, प्रोफेसर राहुल कुमार सेट ने विद्यार्थियों का अतिथियों से परिचय कराया। उन्होंने अतिथियों का स्वागत किया और विद्यार्थियों के मार्गदर्शन के लिए भा.प्र.सं. नागपुर की उनकी यात्रा की सराहना की। उन्होंने आगे बताया कि पीजीपी 2017-19 के दूसरे वर्ष के 12 विद्यार्थियों का एक समूह जल्द ही अंतरराष्ट्रीय निमग्रन कार्यक्रम के तहत जापान जा रहा है।

विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए, भारत में जापान के दूतावास में मंत्री (आर्थिक और विकास) श्री केन्को सोन ने जापान और भारत की समृद्धि के लिए ‘ साझेदारी को नई ऊंचाई पर ले जाने’ के बारे में बात की।

अपनी प्रस्तुति में, श्री सोन ने कहा कि “जापानी कंपनियों ने 2017 में भारत को मध्यम अवधि (3-5 साल) के ऑपरेशन के लिए का दूसरा सबसे आशाजनक क्षेत्र माना, जबकि जापानी एसएमई ने भारत को तीसरा सबसे आशाजनक बताया। जापान में कंपनियों ने 2010 से भारत को दुनिया में दीर्घकालिक (10 वर्ष) के लिए ऑपरेशन का सबसे आशाजनक क्षेत्र माना है।”

उन्होंने आगे कहा कि जापानी कंपनियां “स्थानीय बाजार की भविष्य की विकास क्षमता” के संबंध में भारत को भविष्य के संचालन के लिए सबसे आशाजनक क्षेत्र मानती हैं। श्रीमान ने कहा, “फिर भी जापानी कंपनियां भारत के कानूनी तंत्र, बुनियादी अधोसंरचना और कर प्रणाली को लेकर चिंतित हैं।”

उन्होंने यह घोषणा करते हुए गर्व महसूस किया कि भारत में 1,300 से अधिक जापानी कंपनियां हैं जिनमें 500 से अधिक कंपनियां दिल्ली-गुड़गांव-नोएडा में हैं, गुजरात में 30 से अधिक, मुंबई में 150 से अधिक, पुणे में 50 से अधिक, चेन्नई में 140 से अधिक और बेंगलुरु में 200 के करीब जापानी कंपनियां हैं।

श्री सोन ने कहा कि, “दोनों देशों के बीच बड़े सहयोग हुए हैं। इनमें जापान-भारत निवेश संवर्धन भागीदारी, ऊर्जा, जेआईएम और विनिर्माण कौशल हस्तांतरण, अभिनव एशिया (भारतीय विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति), तकनीकी अंतःप्रशिक्षण कार्यक्रम (टीआईटीपी), आपदा जोखिम में कमी, जापान 2017 में बेंगलुरु में जापान-इंडिया स्टार्टअप हब में आयोजित वर्ल्ड फूड इंडिया में देश के साझेदार रूप में सेवा कर रहा है, एयरोस्पेस (जैक्सए-इसरो संयुक्त कार्य समूह, एशिया-प्रशांत क्षेत्रीय अंतरिक्ष एजेंसी फोरम [एपीआरएसएफ़ -24]), स्वास्थ्य, जापान के सूचना मंत्रालय और भारत के NASSCOM के बीच आईओटी त्वरण कंसोर्टियम (आईटीएसी) के बीच समझौता ज्ञापन, जनवरी 2017 में विज्ञान और प्रौद्योगिकी सहयोग पर 9 वें जापान-भारत संयुक्त समिति, आदि कार्यक्रम शामिल हैं।”

श्री सोन ने यह भी कहा कि सहयोग के लिए अन्य संभावित क्षेत्र जिन पर दोनों देश साथ काम कर रहे हैं, हैं अधोसंरचना विकास (सड़क नेटवर्क कनेक्टिविटी, बिजली, पानी की आपूर्ति, सीवेज), सांस्कृतिक बातचीत (लोगों से लोगों का सांस्कृतिक आदान-प्रदान, जापानी भाषा शिक्षा, खेल विनिमय, आदि), और सामाजिक और पर्यावरणीय स्थिरता (जैव विविधता, वनीकरण, सामुदायिक सशक्तिकरण)।

प्रश्न-उत्तर सत्र के दौरान, भा.प्र.सं. नागपुर के विद्यार्थियों ने जापान की रुचि वाले व्यापार सहयोग के बारे में अधिक जानने में उत्सुकता दिखाई। जब पूछा गया कि जापान के पास भारत में स्टार्टअप के लिए क्या पेशकश है, श्री सोन ने कहा कि इस संबंध में चर्चाएं चल रही हैं और जल्द ही कुछ ठोस निर्णय ले सकते हैं।

विद्यार्थियों में से एक ने पूछा कि चीन के बजाय जापान के साथ मजबूत आर्थिक बंधन है; देश इसका लाभ उठाने में असमर्थ क्यों हैं? श्री सोन ने जवाब दिया कि जापान ने पहले अपने पास स्थित देशों अर्थात इंडोनेशिया और मलेशिया जैसे देशों में अपने व्यापार को फैलाया था। इसका अगला गंतव्य भारत है और यह भारत के साथ काम करने का सही समय है।

अगला कार्यक्रम ‘सांस्कृतिक और ऐतिहासिक बंधन – जापान और भारत संबंध’ – पर भारत में जापान के दूतावास के पहले सचिव मसाहिरो कोबायाशी द्वारा एक प्रस्तुति थी।
उन्होंने कहा कि 8 वीं शताब्दी में पहला भारतीय जापान आया था। श्री कोबायाशी ने कहा, “752 में, बोधीसेना, ब्राह्मण बौद्ध महायाजक, टोडाजी मंदिर, नारा में महान बुद्ध आंख खोलने के समारोह” के मास्टर की भूमिका ग्रहण करने के लिए जापान गए थे। ऐसे कई जापानी देवताओं हैं जिनमें भारतीय देवताओं को शामिल किया गया है। जापान में देवी सरस्वती को समर्पित सैकड़ों मंदिर हैं, साथ ही लक्ष्मी, इंद्र, ब्रह्मा, गणेश, गरुड़, कुबेरा और अन्य देवताओं के असंख्य प्रतिनिधित्वों के साथ जापान में नियमित रूप से पूजा की जाती है।”

श्री कोबायाशी ने जापान में शिक्षा प्रणाली और जापान में भारतीय विद्यार्थियों के अवसरों पर प्रकाश डाला। उन्होंने समझाया कि जापान के गाको और विदेश के स्कूल के बीच प्रमुख अंतर क्या है। उन्होंने बताया कि, “विदेशी देशों में शिक्षकों के विपरीत जो शिक्षण कक्षा में विशेषज्ञ होते हैं, जापानी शिक्षक वर्ग विषयों को पढ़ाने से लेकर, विद्यार्थी मार्गदर्शन और क्लब गतिविधियां सब कुछ संभालते हैं। जापानी स्कूल अपने स्थानीय समुदायों का केंद्र हैं और उन्हें सक्रिय रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं। जापान में, गाको (स्कूलों) में बौद्धिक शिक्षा, शारीरिक शिक्षा और नैतिक शिक्षा शामिल है”।

श्री कोबायाशी ने आगे कहा कि जापान के प्रधान मंत्री का दर्शन यह है कि देश तब तक जीवित नहीं रह सकता जब तक कि अधिक बैद्धिक और आर्थिक निवेश न लाए। श्री कोबायाशी ने बताया कि, “प्रधान मंत्री अबे ने कहा है कि विश्वव्यापी करियर की तलाश करने वाले गैर-जापानी विद्यार्थी जापान के विश्वविद्यालयों का चयन नहीं करते हैं। जापान में विश्वविद्यालयों को और अधिक वैश्वीकृत किया जाना चाहिए”।

श्री कोबायाशी ने विद्यार्थियों को अवगत कराया कि व्यापक विश्वविद्यालय सुधार और अंतर्राष्ट्रीयकरण के माध्यम से, टॉप ग्लोबल यूनिवर्सिटी प्रोजेक्ट (2014-2023) का लक्ष्य जापान में उच्च शिक्षा की अंतर्राष्ट्रीय संगतता और प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि जापान के मैक्स ने 37 शीर्ष वैश्विक विश्वविद्यालयों का चयन किया है और अंतरराष्ट्रीयकरण की दिशा में अपने विश्वविद्यालय सुधार को समर्थन देने के लिए 10 साल के लंबे विशेष बजट आवंटित किए हैं। 37 विश्वविद्यालयों को दो प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है – शीर्ष प्रकार (13 विश्वविद्यालय, दुनिया में शीर्ष 100 में रैंक करने का लक्ष्य रखते हैं) और ग्लोबल ट्रैक्शन टाइप (24 विश्वविद्यालय, उनके प्रदर्शन के आधार पर अग्रणी परीक्षण चलाते हैं)श्री कोबायाशी ने बताया कि, “2017 तक, जापान में 1,236 भारतीय विद्यार्थी पढ़ रहे थे। जापान में अध्ययन के लिए अंतरराष्ट्रीय विद्यार्थियों के लिए विभिन्न छात्रवृत्तियां उपलब्ध हैं। जापान में अध्ययन करने के कई लाभ हैं। देश शांतिपूर्ण है, समाज सुरक्षित और स्वच्छत है, अपराध दर बहुत कम है, कई अस्पताल, रेस्टरूम, सस्ती विश्वविद्यालय शिक्षा, विदेशी विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध समर्थन प्रणाली, अच्छी तरह से विकसित परिवहन प्रणाली इत्यादि।”

कोबायाशी ने जापान-भारत की “विशेष सामरिक और वैश्विक साझेदारी” पर प्रकाश डाला जो 5 साल में जापान से भारत तक 3.5 ट्रिलियन येन सार्वजनिक और निजी वित्तपोषण को लक्षित करता है। इसके अलावा, भारत ने हाई स्पीड रेलवे के लिए जापानी शिंकान्सेन प्रणाली शुरू करने का निर्णय लिया है और परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग में सहयोग के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं, जबकि भारत में जापानी भाषा शिक्षा के प्रचार के लिए एमओसी परभी हस्ताक्षर किए हैं।

प्रोफेसर दीपर्ग्या मुखर्जी ने धन्यवाद का प्रस्ताव पेश किया और उनके विचारोत्तेजक प्रश्नों और सत्र में सक्रिय भागीदारी के लिए विद्यार्थियों की भी सराहना की गई।
सम्मान स्वरूप उपहार: अवसर पर, जापान के प्रतिनिधियों, श्री केनको सोन, भारत में जापान के दूतावास में मंत्री (आर्थिक और विकास) और भारत में जापान के दूतावास में प्रथम सचिव (शिक्षा) श्री मसाहिरो कोबायाशी, को ऑरेंज सिटी के प्रसिद्ध चित्रकार सुभाष बाभुलकर ने की पेंटिंग उपहार में दी गई। इसके अलावा, भा.प्र.सं. नागपुर ने श्री बाभुलकर को भी इस अवसर पर उनकी बहुमूल्य उपस्थिति के लिए सम्मानित किया।